चेतना न्यूज़

  खबरों का सच

नई दिल्ली, 2 दिसम्बर (चेतना न्यूज़)| पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रह्मण्यम का कहना है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) की विशाल गैर-निष्पादित परिसंपत्ति(एनपीए) या खराब ऋण के संकट के समाधान के लिए आधारभूत सुधार की जरूरत है, जिसमें निजी भागीदारी को अनुमति देने की दरकार है। सुब्रह्मण्यम ने अपनी नई किताब 'ऑफ कांसल : द चैलेंजेज ऑफ मोदी-जेटली इकोनॉमी' में एनपीए की समस्या के समाधान में सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के बीच बड़ी संविदा की विवेचना की है। बैंकों का एनपीए बढ़कर 13 लाख करोड़ रुपये हो जाने से तरलता का संकट पैदा होने से केंद्र सरकार और केंद्रीय बैंक के बीच मतभेद पैदा हुआ। पेंगुइन से प्रकाशित उनकी इस किताब का जल्द ही विमोचन होने वाला है। उन्होंने किताब में लिखा है-"पीएसबी में निजी क्षेत्र को बड़ी भागीदारी की अनुमति प्रदान करके उनमें आधारभूत सुधार को सुगम बनाया जा सकता है।" उनका कहना है कि इसके बदले में आरबीआई पीएसबी के पुनर्पूजीकरण के लिए संसाधन बढ़ाने में अपने पूंजी आधिक्य का उपयोग करेगा और किसी नई होल्डिंग कंपनी का पूंजीकरण करेगा। सरकार का आरबीआई के साथ चार मसलों को लेकर मतभेद है। सरकार साख समाप्त होने के किसी जोखिम को दूर करने के लिए तरलता की मदद, बैंकों के लिए पूंजी की जरूरतों में छूट, जमा हुए एनपीए की समस्या से जूझ रहे बैंकों के लिए त्वरित सुधार कार्य (पीसीए), नियमों में छूट और सूक्ष्म, लघु और मध्यम कोटि के उद्यमियों के लिए सहायता चाहती थी। तरलता का मुख्य मसला यह था कि सरकार चाहती थी कि आरबीआई आर्थिक पूंजी रूपरेखा में बदलाव लाकर अपना सुरक्षित अधिशेष हस्तांतरित करे। सुब्रह्मण्यम कहते हैं कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के ऊपर आरबीआई को अधिक निगरानी की शक्ति प्रदान कर आगे विनियामक/पर्यवेक्षण संबंधी सुधार हुआ है। बैंकिंग क्षेत्र के विवाद में सामने आए विजय माल्या, नीरव मोदी, चंदा कोचर, राणा कपूर और रवि पार्थसारथी जैसे कुछ प्रमुख नामों का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) ने कहा, "इन नामावली को सुनकर भारत के दृष्टिवैषम्य पूंजीवाद की याद ताजा हो जाती है।" उन्होंने शेक्सपियर के कथन का जिक्र करते हुए कहा है कि दृष्टिवैषम्य पूंजीवाद को लंबे समय से फलने-फूलने देने से भारतीय बैंकिंग क्षेत्र की मौजूदा स्थिति में थोड़ी खराब हो गई है। उन्होंने कहा कि आरबीआई की पीसीए रूपरेखा जून 2015 में शुरू की गई गई, जिसके माध्यम से एनपीए संकट को स्वीकार किया गया और इसके बाद वित्तीय संस्थानों द्वारा कर्ज पर प्रतिबंध लगाए गए। इसके अलावा, ऋणशोधन अक्षमता व दिवाला संहिता लागू होने पर परिसंपत्ति समाधान पक्रिया में तेजी आई। उन्होंने कहा कि सरकार को आरबीआई को कमजोर बैंकों के लिए पीसीए रूपरेखा पर अमल करने की अनुमति देनी चाहिए।


Share News

नगर पालिक निगम एवं पंचायत कर्मचारी संघ ने विभिन्न मांगों को लेकर आयुक्त को दिया ज्ञापन

देवास 18 दिसम्बर 【चेतना न्यूज़】 नगर पालिक निगम एवं पंचायत कर्मचारी संघ (बीएमएस से सम्बद्ध)ने विभिन्न मांगों को
Read More

अनारसिंह ठाकुर डॉक्टरेट की मानद उपाधि से अलंकृत

देवास 18 दिसम्बर 【चेतना न्यूज़】 चान्सलर मेम्बर ऑफ डॉक्टरल मॉनीटिरिंग बोर्ड द्वारा गुलमोहर कॉन्क्लेव इंडिया
Read More

श्रीराम नर्सिंग होम के निलंबन रद्द प्रेसनोट जारी करने को लेकर डॉ सरल मुकरे :

देवास 17 दिसम्बर 【चेतना न्यूज़】आज जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा कुछ समय पहले शहर के तराणी
Read More

मप्र में किसानों की कर्जमाफी का फैसला

भोपाल, 17 दिसंबर (चेतना न्यूज़)| मध्य प्रदेश में कमलनाथ के मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालते ही किसानों की कर्जमाफी का
Read More

सच्चिदानंद आरोग्यम् सेवा समिति इंदौर द्वारा निःशुल्क स्वास्थ शिविर संंपन्न...

हाटपीपल्या । चेतना न्यूज (पं.आर्य भूषण शर्मा) सच्चिदानंद आरोग्यम् सेवा समिति इंदौर द्वारा निःशुल्क स्वास्थ
Read More

1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में सज्जन कुमार दोषी करार

नई दिल्ली, 17 दिसंबर (चेतना न्यूज़)| दिल्ली उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए सोमवार को कांग्रेस
Read More

मोदी ने प्रयागराज को साढ़े चार हजार करोड़ की परियोजनाओं की सौगात दी (लीड-1)

प्रयागराज, 16 दिसम्बर (चेतना न्यूज़)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की सबसे लंबे समय तक सत्ता में रही पार्टी
Read More

मप्र : कमलनाथ के शपथ ग्रहण का मंच बनेगा 'विपक्षी एकता' का प्रतीक (लीड-1)

भोपाल, 16 दिसंबर (चेतना न्यूज़)| मध्यप्रदेश में कांग्रेस विधायक दल के नेता कमलनाथ सोमवार को यहां एक भव्य समारोह में
Read More

कमलनाथ के cm बनने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने मनाया जश्न ।

जीत की ख़ुशी में उत्साहित कांग्रेसियों ने मनाया जश्न , कमल नाथ के नाम की सहमति से कार्यकर्ताओं में
Read More