चेतना न्यूज़

  खबरों का सच

नरसी मेहता जैसा परमार्थी भक्त संसार में कोई नहीं हुआ —वंदना श्री

हिंदू विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व राज्यपाल जस्टिस विष्णु सदाशिव कोकजे ने कथा श्रवण की

देवास 14 अप्रेल 【चेतना न्यूज़ 】संसार में हमारी दुविधा को परमात्मा के अलावा कोई दूसरा दूर नहीं कर सकता पृथ्वी पर भक्त पैदा नहीं होते प्रभु की भक्ति के चारण के लिए अवतार लेते हैं। ऐसे ही पंद्रहवीं सदी में महान संत नरसी मेहता थे, जिन्होंने बिना राग द्वेष से जिस देवता की भक्ति की उसने उन्हें दर्शन दिए। शिव भक्ति के प्रताप से संसार में एक ही भक्त नरसी मेहता हुए जिसने शंकर भगवान के साथ श्री कृष्ण की महारास लीला का दर्शन किया है। ईश्वर की भक्ति से मिले धन, वैभव, परमार्थ में लूटने वाला नरसी मेहता जैसा परमार्थी भक्त संसार में दूसरा कोई नहीं हुआ। यह आध्यात्मिक कथन केला देवी मंदिर पर चैत्र नवरात्रि महोत्सव के दौरान आध्यात्मिक ज्ञान गंगा यज्ञ में नानी बाई के मायरे की कथा के प्रथम दिन वंदना श्री जी ने व्यक्त किए। रामनवमी पर प्रभु राम के आदर्श और चरित्र का वर्णन कहते हुए कहा कि जिस ताजमहल को संसार का आश्चर्य कहा जाता है उन मूर्खो को यह नहीं पता है कि शाहजहां ने अपनी बीवी की याद में मकबरा बनवाया था वह आश्चर्य नहीं अगर आश्चर्य है तो प्रभु राम ने अपनी पत्नी सीता को लाने के लिए भारत से लंका तक सेतु बनाया था उससे बड़ा संसार का कोई आश्चर्य नहीं है। कथा चित्रण को सदृश्य प्रस्तुत करते हुए नानी बाई के ससुराल द्वारा नरसी मेहता को लिखी गई पाती का इतना सुंदर दृष्यमय चित्रण किया कि श्रोता भाव विभोर हो गए। कथा के मध्य विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष, हिमाचल के पूर्व राज्यपाल, राजस्थान के पूर्व मुख्य न्यायाधीश विष्णु सदाशिव कोकजे ने कथा को श्रवण किया। व्यास पीठ से श्री कोकजे चुनरी ओढ़ाकर सम्मान किया गया । इस अवसर पर श्री कोकजे ने अपने उद्बोधन में कहा कि भारतवर्ष में परमार्थ की परंपरा पुरातनी है । व्यक्ति की प्रतिष्ठा उसके परमार्थ से ही होती है वर्तमान दौर में वैश्य समाज द्वारा आध्यात्मिक की इस परंपरा का पालन किया जाना देखा जा रहा है । आज हमारी हिंदू संस्कृति अध्यात्म के माध्यम से ही बचाई जा सकती है। पहले गुरुकुल एवं संयुक्त परिवार होते थे, जो हमारी संस्कृति को बनाए रखने का सशक्त माध्यम था यह दोनों परंपरा अब नष्ट होती चली जा रही है। ऐसे में हमारे हिंदुत्व की रक्षा के लिए अध्यात्म ही एक ऐसा मार्ग है जिससे हम आने वाली पीढ़ी को सनातन परंपरा के बारे में बता सकते हैं कि भारत वर्ष की मूल संस्कृति क्या है। आरती में मनुलाल गर्ग, दीपक गर्ग, रायसिंह सेंधव, भारत स्वाभिमान के जिला अध्यक्ष राकेश सिंह, देव कृष्ण व्यास, बृजमोहन अग्रवाल ,राजेश खत्री, रमन शर्मा आदि उपस्थित थे। मां चामुंडा सेवा समिति द्वारा वंदना श्री का देवास की परंपरा के अनुरूप सम्मान किया गया।


Share News

संपूर्ण वैधानिक तथ्यों एवं कानूनी प्रावधानों को शामिल कर सुविधा हेतु पुलिस मार्गदर्शिका का विमोचन किया

देवास 25 अप्रैल 【चेतना न्यूज़】 मध्यप्रदेश लोकसभा चुनाव 2019 के तहत संपूर्ण पुलिस अधिकारी कर्मचारियों को चुनाव से
Read More

भागवत कथा मे मनाया गोवर्धन उत्सव, लगाया छप्पन भोग

देवास 25 अप्रेल 【चेतना न्यूज़】 मोक्ष दायनीय, पुण्य सलीला माँ क्षिप्रा तट पर चल रही श्रीमद भागवत कथा के पांचवे दिन
Read More

विश्व हिन्दू परिषद बजरँग दल इंदौर विभाग शौर्य प्रशिक्षण वर्ग 22 से 29 तक देपालपुर

विश्व हिन्दू परिषद बजरँग दल इंदौर विभाग शौर्य प्रशिक्षण वर्ग 22 से 29 तक देपालपुर इंदौर 25 अप्रैल【 चेतना
Read More

गर्मी के तेवर चरम पर तापमान 43 डिग्री के पार रात भी तपने लगी गर्म हवाओं से

दिन का पारा 43 डिग्री तथा रात का पंहुचा 31 डिग्री पर , घर से निकलना हुवा मुस्किल दोपहर में बाजार में छा जाता है
Read More

देवास नगरनिगम के सफाई संरक्षकों की शासकीय सेवा समाप्त की

देवास नगरनिगम के सफाई संरक्षकों की शासकीय सेवा समाप्त की  देवास 24 अप्रेल 【चेतना न्यूज़】 माननीय उच्च न्यायालय
Read More

भूमि खरीदी मामले में महिला से की 40 लाख 71 हजार की धोखा धड़ी

भूमि खरीदी मामले में महिला से की 40 लाख 71 हजार की धोखा धड़ी देवास 24 अप्रेल 【चेतना न्यूज़】 भौरासा निवासी श्रीमती
Read More

युवती से दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार सुनील जैन की जमानत मंजूर

युवती से दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार सुनील जैन की जमानत मंजूर कला संस्कृति संस्था के अध्यक्ष सुनील जैन पर वहि
Read More

युवती से दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार सुनील जैन की जमानत मंजूर

युवती से दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार सुनील जैन की जमानत मंजूर कला संस्कृति संस्था के अध्यक्ष सुनील जैन पर वहि
Read More

भागवत कथा के समापन पर पूर्णाहुति के साथ भंडारे का आयोजन

ग्राम बिछाखेड़ी में आयोजित भागवत कथा के सप्तम दिवस की कथा में भागवत कथा के समापन पर पूर्णाहुति के साथ भंडारे का
Read More