चेतना न्यूज़

  खबरों का सच

इंदौर28 अगस्त 【चेतना न्यूज़】 श्रीमान अध्यक्ष जी देश मे कोरोना वायरस सभी के लिए नयी चुनौती है पर इसके बावजूद भी ज़िंदगी कभी रुकती नहीं है । अब ज़िंदगी अपनी रफ्तार पर धीरे धीरे पुनः वापस आ रही है | हालाकी भारतीय कुश्ती संघ अपने खिलाड़ियों, तकनीकी अधिकारियों और कुश्ती प्रशंसकों की सेहत को लेकर फिक्रमंद हैं | महोदय मुझे सूत्रों से ज्ञात हुआ कि कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण, भारतीय कुश्ती संघ इस साल सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप 2020 की मेजबानी नहीं करेगा । अगर राष्ट्रीय चैंपियनशिप नहीं होगी, तो स्टार खिलाड़ियों को कोई फर्क नहीं पड़ेगा, या उन्हें कोई नुकसान नहीं होगा। क्योंकि वे पहले से ही कुछ सरकारी विभागों से जुड़े हैं । श्रीमान जी यदि इस वर्ष सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप 2020 का आयोजन नहीं किया जाता है, तो देश के कई युवा पहलवान जो कुश्ती के साथ अपने कैरियर को बनाना चाहते हैं, उनके जीवन पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है । राष्ट्रीय चैम्पियनशिप के पदको की बदोलत खेल और खिलाडियों को प्रमोट करने के लिए भारतीय रेलवे, भारतीय सेना , पुलिस समेत कई सरकारी संस्थान अपने यहाँ सरकारी नौकरियों में मेधावी खिलाडियों की सीधी भर्ती किया करते हैं | इससे खिलाडियों को जॉब और पैसे मिलने के साथ आत्मबल तो बढ़ता हीं है साथ हीं उनके अन्दर बढ़ता है देश के लिए कुछ करने का ज़ज्बा | खिलाडियों को प्रोत्साहन देने के लिए भारत सरकार के ये विभाग हमेशा हीं तत्पर रहा करते है | खेल कोटे के अंतर्गत सरकारी जॉब के लिए सरकारी संस्थाओ का ज़्यादातर यही मानदण्ड होता है की खिलाड़ी सीनियर / जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप मे भाग लिया हो या कम से कम तीसरा स्थान प्राप्त किया हो | राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप नहीं होने की अवस्था मे इन युवा पहलवानों का केरियार नष्ट हो जाएगा | मेरा सुझाव है कि भारतीय कुश्ती संघ को कोरोना वायरस रोकथाम और सुरक्षा मैनुअल बनाकर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप 2020 का आयोजन करना चाहिए । मैंने राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप 2020 के साथ एक प्रतियोगिता अनुसूची के बारे में कुछ नियम बनाए हैं, जिसके तहत प्रतियोगिता का समय थोड़ा लंबा होगा, लेकिन अच्छी बात यह है कि इस अनुसूची को अपनाने से कोरोना संक्रामण के जोखिम से बचा जा सकता है साथ ही राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप 2020 का आयोजन किया जा सकता है | स्पोर्ट्स मैनेजमेंट इसमे हमारी मदद कर सकता है | स्पोर्ट्स मैनेजमेंट का सीधा अर्थ है खिलाड़ियों के खेल से परे एक मैच के आयोजन से जुड़ी हर छोटी-बड़ी चीज का बेहतर प्रबंधन । चूंकि आज कुश्ती खेल का सीधा सम्बंध कोरोना संकर्मण से जुड़ गया है, सो स्पोर्ट्स मैनेजमेंट की आवसकता भारतीय कुश्ती संघ (WFI) को पड़ गई है एक आयोजन का इस तरह से मैनेजमेंट करना, जिससे कि उम्दा आयोजन के साथ-साथ कोरोना संक्रामण के बावजूद हमारे पहलवान खिलाड़ियो की सुरक्षा बनी रही

| 1) बगैर दर्शकों के राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप आयोजित करने की आवश्यकता है |

2) राष्ट्रीय चैम्पियनशिप किसी भी स्टेडियम या मैदान में नहीं करवाते हुये इसे एक छोटे जगह पर आयोजित करने की आवश्यकता है जहां 3 मैट आसानी से लगाए जा सके 3 मेट व प्रति दिन कम वजन श्रेणियों को शामिल करने के कारण, हर दिन टूर्नामेंट को खत्म करने में बहुत कम समय लगेगा और समय की कमी के कारण खिलाड़ी एक-दूसरे के संपर्क में नहीं रह सकेगे ।

3) राष्ट्रीय चैंपियनशिप उसी तरह से आयोजित की जानी चाहिए जैसे हम किसी अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिता से पहले भारतीय पहलवानों की चयन ट्रायल आयोजित करते हैं ।

4) उसी दिन, वही पहलवान प्रतियोगिता स्थल पर आएंगे, जिनका मैच उसी दिन आयोजित किया गया है।

5) सभी राज्यों को चाहिए की वह अपने पहलवानों के ट्रेन आरक्षण उन पहलवानों के कुश्ती मैच और वजन वाले दिन के अनुपात में ही आरक्षित करवाए । कोरोना संक्रमण के जोखिम को देखते हुये पूरी कुश्ती टिम को एक साथ लाने-ले-जाने की प्रथा को समाप्त किया जाना चाहिए।

6) हालांकि कुश्ती प्रतियोगिता इनडोर हॉल में होती है, लेकिन कोरोना संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए, इसे खुले मैदान में किया जाना चाहिए । उदहारण के तौर पर जेसे चंदगीराम आखाडा दिल्ली का जमुना तट और या छत्रसाल स्टेडियम का खुल्ला खेल मैदान और चैंपियनशिप के लिए स्थान देश की राजधानी दिल्ली इसलिए होना चाहिए ताकि आवागमन के साधन आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं लॉक डाउन की स्थिति में भी दिल्ली शहर के हर हिस्से से जुड़ा हुआ था

7) खिलाड़ियों के वजन व प्रतियोगिता के दौरान कोच, पहलवानों, रेफरीयो और अधिकारियों की सावधानियों व स्वच्छता को बनाये रखने के लिए भारतीय कुश्ती संघ को मापदंड बनाना चाहिए। इसके लिए विशेषज्ञों की मदद बहुत जरूरी होगी |

8) नेशनल चैंपियनशिप में भाग लेने से पहले सभी राज्यों की टीम को भारतीय कुश्ती संघ आदेश दें कि अपने-अपने पहलवानों को राष्ट्रीय चैंपियनशिप से पहले 14 दिन अपने-अपने राज्यों में ही कोरनटाइन करें व प्रतियोगिता से पहले कोरोना संक्रमण की जांच करवाएं उसके बाद ही राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप मैं भाग लेने के लिए पहलवान योग्यता हासिल करेंगे ।


Share News

रेलवे ने फ्रीस्टाइल राष्ट्रीय कुश्ती में टीम चैम्पियनशिप जीती

नई दिल्ली 24 जनवरी 21 【चेतनान्यूज़】 रेलवे ने नोएडा स्टेडियम में आयोजित 65 वीं पुरुष फ्रीस्टाइल सीनियर राष्ट्रीय
Read More

भारत गौरव अवॉर्ड 2021 चयन कमेटी मे अर्जुन अवॉर्डी कृपाशंकर बिश्नोई अध्यक्ष मनोनीत

नई दिल्ली- जनवरी【चेतना न्यूज़】कालीरामण फाउंडेशन के द्वारा हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 6th भारत गौरव अवॉर्ड दिनांक
Read More

चेतना न्यूज़ पर सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती चेम्पियन के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

5 जनवरी 21 【चेतनान्यूज़】 वर्तमान वैश्विक महामारी (COVID-19) के जोखम को कम करने व संकर्मण फेलने से रोकने के लिए तथा उसके
Read More

डब्ल्यूएफआई ने निम्नलिखित अनुसूची के अनुसार सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप आयोजित करने का निर्णय

   इंदौर 17 दिसम्बर【चेतनान्यूज़】 डब्ल्यूएफआई ने निम्नलिखित अनुसूची के अनुसार सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती
Read More

इंदौर के पहलवान कृपाशंकर दिल्ली की रामलीला मे बने थे मारीच

इंदौर 19 अक्टूबर 【चेतनान्यूज़】 दिल्ली की लव-कुश रामलीला में बॉलीवुड और खेल की दुनिया के कई सितारे अपनी प्रतिभा का
Read More

अवैध उत्खनन के आरोपी की जमानत याचिका खारिज

सतना 13 अक्टूबर 【चेतना न्यूज़】 माननीय न्यायालय द्वितीय अपर एवं सत्र न्यायाधीश श्री वीडी राठौर नागौद के द्वारा
Read More

राष्ट्रमण्डल कुश्ती चैम्पियनशिप में भारत की ओर से रजत पदक प्राप्त पहली महिला पहलवान अर्पणा बिश्नोई ने कहा की मध्य प्रदेश में होता है खेलो और खिलाड़ियों से खिलवाड़

इंदौर 12 अक्टूबर 【चेतना न्यूज़】 राष्ट्रमण्डल कुश्ती चैम्पियनशिप में भारत की ओर से रजत पदक प्राप्त करने वाली मध्य
Read More

शिक्षक दिवस के अवसर पर विशेष

5 सितंबर 【चेतना न्यूज़】 डॉ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्दांजलि पेश की गई। व मादर_ए_वतन की
Read More

अर्जुनवार्डी कृपाशंकर विश्नोई ने भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष तक खिलाड़ियों के विचारों के अनुरूप दिए सुझाव

इंदौर28 अगस्त 【चेतना न्यूज़】 श्रीमान अध्यक्ष जी देश मे कोरोना वायरस सभी के लिए नयी चुनौती है पर इसके बावजूद भी
Read More