चेतना न्यूज़

  खबरों का सच

लखनऊ, 25 मई (chetnanews/आईपीएन)। उत्तर प्रदेश में करीब एक हफ्ते से लगातार बढ़ रही भीषण गर्मी ने जहां लोगों को परेशान कर दिया है। वहीं तेज धूप, लू और उमस ने मौसमी बीमारियों का खतरा भी बढ़ा दिया है। सरकार ने सावधानी बरतने के परामर्श जारी कर सुझाव दिए हैं। 

इन दिनों अस्पतालों में हीट स्ट्रोक, निमोनिया, डायरिया, दस्त आदि से ग्रस्त मरीजों की संख्या बढ़ रही है। लू से जन-हानि भी हो सकती है। इसे प्रदेश सरकार ने भी गंभीरता से लिया है और लू से बचाव एवं राहत के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रबंध प्राधिकरण द्वारा 'हीट वेव' के संबंध में जारी गाइड लाइन-2017 के आधार पर राज्य व जनपद स्तर पर हीट वेव एक्शन प्लान तैयार किया है। 

लू के असर को कम करने के लिए और लू से होने वाली मौत की रोकथाम के लिए सरकार ने सावधानी बरतने के एडवाइजरी जारी कर सुझाव दिए हैं।

एडवाइजरी के अनुसार, कड़ी धूप में बाहर न निकलें, खासकर दोपहर 12 से 3 तक के बीच में, जिनती बार हो सके पानी पीएं, प्यास न लगे तो भी पानी पीएं। लू और उमस भरे गर्मी के मौसम में हल्के रंग के ढीले-ढाले सूती कपड़े पहनें। धूप से बचने के लिए गमछा, टोपी, छाता, धूप का चश्मा, जूते और चप्पल का इस्तेमाल करें। 

लोगों को सफर में अपने साथ पानी रखने की सलाह दी गई है। साथ ही नशीले पदार्थ, शराब, अल्कोहल के सेवन से बचने की हिदायद के साथ शराब, चाय, कॉफी जैसे पेय पदार्थों का इस्तेमाल नहीं करने को कहा गया है, क्योंकि ये शरीर को निर्जलित कर सकते हैं। 

सलाह दी गई है कि अगर आपका काम बाहर का है तो टोपी, गमछा या छाते का इस्तेमाल जरूर करें और गीले कपड़े को अपने चहरे, सिर और गर्दन पर रखें। अगर आपकी तबीयत ठीक न लगे या चक्कर आए तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। घर में बना पेय पदार्थ जैसे कि लस्सी, नमक-चीनी का घोल, नींबू पानी, छाछ, आम का पना इत्यादि का सेवन करें। 

जानवरों को छांव में रखें और खूब पानी पीने को दें। अपने घर को ठंडा रखें, पर्दे शटर आदि का इस्तेमाल करें, रात में खिड़कियां खुली रखें। फैन, ढीले कपड़े का उपयोग करें, ठंडे पानी से बार-बार नहाएं, गर्म हवा की स्थिति जानने के लिए रेडियो सुनें, टीवी देखें, समाचारपत्र पर स्थानीय मौसम पूवार्नुमान की जानकारी लेते रहें।


Share News