चेतना न्यूज़

  खबरों का सच
' नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (चेतना न्यूज़)| विदेश राज्यमंत्री एम.जे. अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार गजाला वहाब ने सोमवार को कहा, 'हां, झूठ के पांव नहीं होते' और वह बहुत दूर चल नहीं सकता। इससे एक दिन पहले अकबर ने उनके ऊपर लगाए गए यौन-उत्पीड़न के आरोपों को बेबुनियाद और निराधार बताया था और कहा था--'झूठ के पांव नहीं होते'। न्यूज वेबसाइट 'द वायर' के लिए लिखने वाली वहाब ने कहा कि अकबर ने अपने ऊपर लगे आरोपों को संकेत और कल्पना के आधार पर बताया है, जो एक उबाऊ रूढ़ोक्ति है। उन्होंने कहा कि वह या तो झूठ बोल रहे हैं या फिर जब अखबार के कार्यालय के भीतर जहां उत्पीड़न हुआ उस जगह को उन्होंने जब 'बहुत छोटा घनाकार' बताया तो उनकी स्मृति काम नहीं कर रही थी। उन्होंने कहा कि सूर्य किरण बिल्डिंग स्थित 'द एशियन एज' के दफ्तर में अकबर का कमरा ध्वनिरोधी था।

Share News