UNSC में भारत को स्थायी सदस्यता जरूर मिलेगी, एस जयशंकर का बड़ा बयान

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में स्थायी सदस्यता पाने के लिए दबाव बना रहा है। शिमला में बुद्धिजीवियों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि यूएनएससी की स्थायी सदस्यता के संबंध में हमारा लक्ष्य इसे जल्द से जल्द हासिल करना है। लेकिन, ये लक्ष्य इतनी जल्दी हासिल नहीं होगा। क्योंकि स्थायी सदस्यों को अभी भी काफी दबदबा प्राप्त है। चाहे यूक्रेन हो या गाजा, वे पूरी दुनिया को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर आपस में बातचीत करते हैं। इसलिए, वे नहीं चाहेंगे कि यह (स्थायी सदस्यों की संख्या) छह, सात या आठ हो जाए।इसे भी पढ़ें: Delhi Lok Sabha Election | सुबह-सुबह अपना वोट कास्ट करने पहुंचे विदेश मंत्री जयशंकर, दिल्ली में मतदान केंद्र पर First Male Voter Certificate मिलाइसलिए, अगर हमें आना है, तो हमें सभी को जागरूक करना होगा, दबाव डालना होगा और उन्हें मनाना होगा, तभी हम अपना लक्ष्य हासिल कर पाएंगे। जयशंकर ने याद दिलाया कि भारत के पास UNSC में स्थायी सदस्यता पाने का अवसर था, हालाँकि, उसने यह मौका गँवा दिया। उन्होंने कहा कि 50 साल पहले, हमारे पास अवसर था, लेकिन तत्कालीन सरकार ने इसे स्वीकार नहीं किया। उन्हें नहीं लगा कि मामला उस प्राथमिकता का है. लेकिन, आज, मुझे लगता है कि स्थिति हमारे लिए अनुकूल है... यदि आप विकसित देशों से पूछें, तो वे भारत को एक बहुत विश्वसनीय भागीदार मानते हैं।इसे भी पढ़ें: आपको लगातार चुनौती देते हैं...पीएम मोदी के साथ काम करने को लेकर जयशंकर ने क्या खुलासा कर दिया?उन्होंने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि यूएनएससी के स्थायी सदस्यों के चयन के संबंध में संयुक्त राष्ट्र में कोई चुनाव नहीं कराया जाता है। आज हमारे यहां चुनाव हो रहे हैं, लेकिन उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में चुनावों को रोक दिया है। अगर मतदान नहीं होगा तो फैसला कैसे होगा? उनका इरादा इसे अवरुद्ध रखने का है, और हमारा इरादा दबाव बनाए रखने का है... आज, हम जनसंख्या के मामले में नंबर एक हैं, अर्थव्यवस्था के मामले में पांचवें और तीसरे स्थान पर आ जाएंगे। 

May 29, 2024 - 17:39
 0  14
UNSC में भारत को स्थायी सदस्यता जरूर मिलेगी, एस जयशंकर का बड़ा बयान

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में स्थायी सदस्यता पाने के लिए दबाव बना रहा है। शिमला में बुद्धिजीवियों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि यूएनएससी की स्थायी सदस्यता के संबंध में हमारा लक्ष्य इसे जल्द से जल्द हासिल करना है। लेकिन, ये लक्ष्य इतनी जल्दी हासिल नहीं होगा। क्योंकि स्थायी सदस्यों को अभी भी काफी दबदबा प्राप्त है। चाहे यूक्रेन हो या गाजा, वे पूरी दुनिया को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर आपस में बातचीत करते हैं। इसलिए, वे नहीं चाहेंगे कि यह (स्थायी सदस्यों की संख्या) छह, सात या आठ हो जाए।

इसे भी पढ़ें: Delhi Lok Sabha Election | सुबह-सुबह अपना वोट कास्ट करने पहुंचे विदेश मंत्री जयशंकर, दिल्ली में मतदान केंद्र पर First Male Voter Certificate मिला

इसलिए, अगर हमें आना है, तो हमें सभी को जागरूक करना होगा, दबाव डालना होगा और उन्हें मनाना होगा, तभी हम अपना लक्ष्य हासिल कर पाएंगे। जयशंकर ने याद दिलाया कि भारत के पास UNSC में स्थायी सदस्यता पाने का अवसर था, हालाँकि, उसने यह मौका गँवा दिया। उन्होंने कहा कि 50 साल पहले, हमारे पास अवसर था, लेकिन तत्कालीन सरकार ने इसे स्वीकार नहीं किया। उन्हें नहीं लगा कि मामला उस प्राथमिकता का है. लेकिन, आज, मुझे लगता है कि स्थिति हमारे लिए अनुकूल है... यदि आप विकसित देशों से पूछें, तो वे भारत को एक बहुत विश्वसनीय भागीदार मानते हैं।

इसे भी पढ़ें: आपको लगातार चुनौती देते हैं...पीएम मोदी के साथ काम करने को लेकर जयशंकर ने क्या खुलासा कर दिया?

उन्होंने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि यूएनएससी के स्थायी सदस्यों के चयन के संबंध में संयुक्त राष्ट्र में कोई चुनाव नहीं कराया जाता है। आज हमारे यहां चुनाव हो रहे हैं, लेकिन उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में चुनावों को रोक दिया है। अगर मतदान नहीं होगा तो फैसला कैसे होगा? उनका इरादा इसे अवरुद्ध रखने का है, और हमारा इरादा दबाव बनाए रखने का है... आज, हम जनसंख्या के मामले में नंबर एक हैं, अर्थव्यवस्था के मामले में पांचवें और तीसरे स्थान पर आ जाएंगे। 

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow